धरती का अंत कब होगा – Dharti Ka ant kab hoga

हेलो दोस्तों हम और आप जो भी चीज़ें देख रहे हैं 

उसका अतीत बन जाना तय है पृथ्वी पर जीवन का अस्तित्व  

भी इसमें शामिल है एक दिन यह भी अतीत बन जाएगा लेकिन 

कब आपको भर यकीन हों लेकिन जीवाश्मों के अध्ययन के  

मुताबिक पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व को करीबन 3.5 

अरब साल हो चुके हैं इतने समय में पृथ्वी ने कई  

तरह की आपदाएं झेलनी है जिम जाना या अंतरिक्ष की 

चट्टानों का टकराना प्राणियों में बड़े पैमाने पर  

जहर का फैलना जलाकर सब कुछ राख कर देने वाले रेडिएशन 

जाहिर है यदि जीवन को ऐसा आभूषण खतरा पैदा हो तब भी  

पृथ्वी से पूरी तरह से जीवन का अस्तित्व खत्म नहीं 

हो पाएगा लेकिन पृथ्वी पर इस दुनिया के खत्म होने  

की आशंका तो है ही शायद पूरी पृथ्वी बंजर भूमि में 

तब्दील हो जाएगी लेकिन क्या हो सकता है कब तक रहेगा  

पृथ्वी पर जीवन पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व से जुड़ी 

संभावनाओं और आशंकाओं पर एक नजर डालते हैं संभव है  

कि पृथ्वी उज्जीवन ज्वालामुखियों के विस्फोट से 25 

करोड़ साल में खत्म हो जाएगा ऐसा होने पर पृथ्वी  

पर मौजूद पहुंचा फीस भी जीवन नष्ट हो जाएंगे जबकि 

पंचानवे फिर भी समुद्री जीवों का अस्तित्व नष्ट हो  

जाएगा इस दौरान ज्वालामुखी से जो अलावा निकलेगा 

वह ब्रिटेन के आकार से आठ गुना बड़ा होगा लेकिन  

जीवन अपने आप गायब नहीं होगा दोस्तों यह सामान्य 

जानकारी है कि पृथ्वी पर से डायनासोर प्रजाति का  

शुक्र ग्रह के टकराने के कारण अंत हुआ था मगर एक 

भारी-भरकम क्षुद्र ग्रह के टकराने से विशालकाय  

डायनासोर विलुप्त हो सकते हैं तो फिर एक दूसरी 

टक्कर से पृथ्वी पर जीवन भी तो नष्ट हो सकता है  

हालांकि यह काफी हद तक इस पर निर्भर करेगा कि शुक्र 

ग्रह टकराता कहां है कुछ बड़े शुक्र ग्रह पृथ्वी से  

टकराए जरूर लेकिन उससे पृथ्वी पर जीवन खत्म नहीं हुआ 

डायनासोर को नष्ट करने वाले शुक्र ग्रह जितने बड़े  

आकाशीय पिंड के पृथ्वी का टकराना दूर उदाहरण है इतने 

बड़े आकाशीय पिंड पृथ्वी से 50 करोड़ साल के अंतराल  

पर ही टकराते हैं अगर शुक्र ग्रह पृथ्वी से टकराएगा 

भी तो पृथ्वी पर से जीवन पूरी तरह समाप्त नहीं होगा  

हालांकि इसकी आशंका तब ज्यादा होगी जब कोई ग्रह का 

आकार का प्रिंटर पृथ्वी से टकराएगा दुनिया में जब  

भी कोई महामारी अपने पैर पसारना शुरू करती है तब-तब 

दुनिया के अंत को लेकर लोग चर्चा करते हैं अलग-अलग  

धर्मों में दुनिया के अंत का समय अलग-अलग बताया गया 

है नास्त्रेदम इस समय दुनिया के कई भविष्यवक्ताओं ने  

भी इस बारे में अनुमान जताए हैं ब्रिटेन के महान 

वैज्ञानिक आईजैक न्यूटन और बहुत ही विद स्टीफन  

हाकिंग ने भी दुनिया के अंत की भविष्यवाणी की थी 

आइए जानते हैं उनकी भविष्यवाणियों के आधार कि आते  

और उन्होंने इसकी गणना कैसे की दोस्तों दुनिया में 

जब भी कोई खतरनाक बीमारी विकराल रूप लेने लगती है  

तो लोग अक्सर चर्चा करने लगते हैं कि दुनिया का अंत 

कब होगा इस समय दुनिया के 73 देश कोरोना वायरस मोदी  

का सामना कर रहे हैं चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ 

यह कोरोनावायरस अब तकरीबन एक लाख लोगों को अपनी चपेट  

में ले चुका है जिसमें हजारों लोगों की मौत हो चुकी 

है अकेले चीन में ही हजारों लोगों को करना वायरस के  

कारण मौत का शिकार होना पड़ा दुनियां पर जीवन को 

लेकर ब्रिटेन के महान गणितज्ञ और भौतिकविद ग्यान  

एकरस आइसक न्यूटन ने भी अपने नोट्स और चिट्ठियों में 

जिक्र किया था उनके मुताबिक अगर साल 2060 तक दुनिया  

बसीं रह गई तो यह विनाश की शुरुआत का साल होगा फादर 

ऑफ मॉडर्न साइंस एडिटर ने 2060 में दुनिया के खत्म  

होने का एक फॉर्मूला विद दिया था गति के नियम के 

तमाम फॉर्मूला का आविष्कार करने वाले न्यूटन में  

1704 में एक नोट लिखा था न्यूटन का यह नोट उनकी लिखी 

चिट्ठियों के साथ मिला न्यूटन ने 1727 में निधन के  

बाद उनके लिखे सभी नोट्स चिट्ठियां उनके घर में पाए 

गए सराहा ड्राई की किताब न्यूटन पेपर 10 स्ट्रेंज  

एंड ए प्रोसेस आफ आईएफ यू टर्न मैन्यूस्क्रिप्ट के 

मुताबिक उन्होंने अपने जीवन में करीबन 10,000 नोट्स  

और लेटेस्ट लिखें तरह ने एक इंटरव्यू के दौरान 

बताया कि जब इन नोट्स और लेटेस्ट को 18 साल के  

आखिर में कैंब्रिज लाया गया तो यह काफी अस्त-व्यस्त 

थे किड सही ढंग से लगाने में दो लोगों को 16 साल लग  

गए उनके नोट्स और चिट्ठियों की 1936 में नीलामी हुई 

इन्हें इंग्लैंड के अर्थशास्त्री जॉन मेनार्ड कींस  

ने खरीदा बाद में इन सभी नोट्स को यह वसल्लम के एक 

स्कूल ने सीक्रेट्स ऑफ न्यूटन नाम से एक किताब में  

डाल दिया यह किताब यूनिवर्सिटी ऑफ योरसेल्फ में 

आज भी रखी हुई है न्यूटन ने एक नोट में लिखा अगर  

इंसान यह सोचता है कि वह हमेशा के लिए रहेगा तो ऐसा 

बिल्कुल नहीं है उसका भी समय आएगा जब इंसान धर्म को  

मानना बंद कर देगा तभी से उसका अंत शुरू हो जाएगा 

दुनिया भी एक दिन खत्म हो जाएगी दुनिया में मौजूद  

हर चीज कुछ समय के लिए रहेगी एक समय आएगा जब आधा समय 

क्विक आयोग ने अपने एक नोट में लिखा है कि उन्होंने  

आगे समय की बात है किताब में पड़ेगी जिसमें समय समय 

समय और आधा समय का जिक्र किया गया था न्यूटन ने इसी  

आधार पर गणना की और उत्तर पाया कि साढ़े तीन साल बाद 

योनि करीबन 1260 दिन इसके बाद उन्होंने वैज्ञानिक  

गणना कर दिन को वर्ष में बदल दिया यानी कि 1260 

साल आई से यह ने अपनी गणना के आधार पर यह कहा कि  

दुनिया 1260 साल में खत्म हो जाएगी इसके बाद न्यूटन 

के मन में सवाल उठा कि आखिर यह 1260 साल के इस वर्ष  

से शुरू माने जाएं इसके लिए उन्होंने वर्ष 800 को 

मानक बनाया इसके पीछे उनका तर्क था कि 808 में रूम  

में धार्मिक क्रांति आई और रोम के राजा शैली मैडम 

ने शासन के ऊपर पोप को स्थान दिया न्यूटन की गणना  

के आधार पर 800 में 1260 जोड़ने पर साल 2060 आया 

और उन्होंने दुनिया के अंत झाल 2060 बताया लीड  

1704 में लिख दिया था कि अगर साल 2060 तक दुनिया 

का अंत नहीं हुआ तो यह वह साल होगा जब तबाही शुरू  

होगी प्रसिद्ध वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने दुनिया 

के अंत को लेकर दावा किया था कि मानव जाति ज्यादा  

से ज्यादा छह साल तक जीवित रह सकती है उनका कहना था 

कि छह साल के भीतर पृथ्वी आग के गोले में तब्दील हो  

जाएगी साथ ही कहा था कि मनुष्य को सौंप साल के भीतर 

किसी दूसरे ग्रह पर जीवन की खोज कर बस्तियां बसानी  

होगी उन्होंने तर्क दिया कि बहुत ज्यादा आबादी के 

कारण धरती पर उर्जा की खपत बहुत ज्यादा हो जाएगी  

इससे धरती का तापमान असीमित रूप से बढ़ेगा और धरती 

गर्म हो कर लाल हो जाएगी उन्होंने भविष्यवाणी की थी  

कि आने वाले समय में पृथ्वी का तापमान शुक्र ग्रह के 

बराबर हो जाएगा इसके बाद पृथ्वी पर एसिड रेन हो सकती  

है दोस्तों प्रोफेसर हॉकिंग में धरती पर मनुष्य 

की जड़ एक रिपोर्ट के कब्जे के खतरे की आशंका भी  

जताई थी उनके अनुसार आने वाले समय में रोबोट खुद एक 

स्वचालित सभ्यता बनकर मनुष्य पर कब्जा कर सकते हैं  

एक अंतर्राष्ट्रीय वेबसाइट को दिए गए साक्षात्कार 

में स्टीफन ने कहा कि हमें आर्टिफिशल इंटेलिजेंस  

के विकास की तरफ बढ़ते हुए इससे जुड़े खतरों के 

बारे में भी ध्यान देना चाहिए उन्होंने एक समारोह  

में भविष्यवाणी की थी कि हमारा अंत मानवीय आक्रमकता 

और दुनिया पर राज करने की जिद के कारण ही होगा इसके  

लिए परमाणु हथियारों का इस्तेमाल किया जाएगा जिससे 

सामूहिक विनाश होगा दोस्तों मुझे नहीं पता कि दुनिया  

का कभी अंत होगा या नहीं होगा लेकिन इतना जरूर 

मानता हूं कि जिस चीज का सृजन होता है उसका अंत भी  

एक ना एक दिन अवश्य होता है सैफ ऐसा माना जाता है कि 

अधिकांश धर्म शास्त्रों में दुनिया के विनाश अपराध  

के संबंध में बताया गया है एक पैन इस पूरी दुनिया का 

विनाश होना है सभी धर्म है और देशों के अनुसार प्रलय  

के लिए अलग-अलग परिभाषाएं बताई गई है शायद इसीलिए 

अब तक कई बार दुनिया के विनाश की भविष्यवाणियां की  

गई है हालांकि कयामत का दिन कब आएगा इसकी कोई सटीक 

भविष्यवाणी कर पाना लगभग असंभव सा ही है फिर भी कई  

सभ्यताओं और लोगों द्वारा इसकी भविष्यवाणी समय-समय 

पर होती रही है दुनिया का अंत कैसे होगा कब होगी  

विनाश लीला जैसे कई सवाल है जिनके जवाब आज भी खोजे 

जा रहे हैं लेकिन आज हम जानने की कोशिश करेंगे कि  

आखिर कब कब और किन किन लोगों ने पृथ्वी के विनाश की 

अब तक भविष्यवाणियों की है लेकिन हर बार वह मात्र एक  

कल्पना व साबित हुई दोस्तों भविष्यवाणी की गई थी 

कि 2012 में दुनिया का अंत हो जाएगा मेक्सिको की  

माया सभ्यता के कैलेंडर के हिसाब से यह घोषणा की गई 

थी माया सभ्यता की प्रमाणिकता इतनी अधिक की कि उसकी  

भविष्यवाणी कुछ सभी ने सच मान लिया था भारत में तो 

सभी लोग अपनी अंतिम इच्छा पूरी कर जोधपुर शहर में  

लग गए थे चारों तरफ हाहाकार मच गया था टीवी रेडियो 

और समाचार पत्रों ने दो लोगों की नींद ही उड़ा कर  

रख दीजिए लेकिन अन्य भविष्यवाणियों की तरह है 2011 

में चर्चा में आई यह भविष्यवाणी भी गलत साबित हुई  

ऐसा माना जा रहा था कि माया सभ्यता का कैलेंडर इसे 

समाप्त हो रहा है माया कैलेंडर में 21 सितंबर 2012  

के बाद की तिथि का वर्णन नहीं है कैलेंडर के अनुसार 

उसके बाद पुष्पि का अंतर था इस पर यकीन करने वाले  

कहते हैं कि हजारों साल पहले ही अनुमान लगा लिया 

गया था कि 21 सितंबर 2012 पृथ्वी का प्रलय का दिन  

होगा यह सभ्यता गणित और खगोल विज्ञान के मामले में 

बेहद जी 19 मानी गई थी इस सभ्यता के कैलेंडर में  

पृथ्वी की उम्र 5126 वर्षा की गई थी यानी कि 2060 तक 

पृथ्वी का अंत निश्चित है दोस्तों ऐसे ही और भी कई  

वैज्ञानिकों ने पृथ्वी के अंत में अपने मत दिए हैं 

और यह कहा है कि साल 2060 तक पृथ्वी अंत निश्चित है  

अनेक भविष्यवक्ताओं के साथ ही व्रत की अवधि में 

भी दुनिया के अंत की भविष्यवाणी की है द विंची  

के अनुसार दुनिया का अंत 4006 में एक वैश्विक बाढ़ 

आएगी और सारी दुनिया का सफाया हो जाएगा लियोनार्डो  

द विंची की इतालवी पुनर्जागरण के सबसे अधिक ज्ञाता 

के रूप में जाने जाते हैं द विंची पेंटर चित्रकार  

इंजीनियर संगीतज्ञ वैज्ञानिक गणितज्ञ अविष्कारक और 

बहुत गुस्से द विंची के मुताबिक दुनिया के खत्म होने  

की शुरुआत वैश्विक बाढ़ से 21 मार्च 4600 शुरू होगी 

और एक नवंबर 4006 तक दुनिया जलमग्न हो जाएगी और इस  

तरह से दुनिया का खात्मा हो जाएगा जीवन की रोजमर्रा 

की समस्याओं के बीच एक बार फिर हाल ही में दुनिया  

तबाह होने की भविष्यवाणी की गई थी इस भविष्यवाणी 

के मुताबिक 29 जुलार्इ 2016 को पूरी दुनिया तबाह  

हो जाएगी एंड टाइम प्रॉपर्टीज नाम की संस्था की 

भविष्यवाणी के अनुसार यह कहा गया था कि इस चुंबकीय  

ध्रुव के पलटने से इस आपदा की शुरुआत होगी और 

धरती से जीवन खत्म हो जाएगा दोस्तों किस वैज्ञानिक  

अवधारणा आप लोगों को सही लग रही है उस वैज्ञानिक 

का नाम हमें नीचे कमेंट सेक्शन में जरूर बताइए तो  

दोस्तों कैसा लग रहा है आपको वीडियो आशा करता हूं 

कि आपको article अच्छी लगी होगी अगर आपको वीडियो  

अच्छी लगी हो तो हमारे  Article को ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिए

Leave a Comment

Your email address will not be published.